मुख्य लेख

भारत सरकार के मंत्री के गाव में शादिया रोक दी गयी

Posted by Tahalka.In|Online News Channel | | Posted in , , ,

भारत सरकार के मंत्री के गाव में शादिया रोक दी गयी 
लोग स्नान नही कर पा रहे है ,मंत्री के घर के बाहर खुद का हैण्ड पम्प खराब 




अब आप फोटो में देख सकते है :- मंत्रीजी के घर के बाहर पानी के लिए खडी महिलाएं ,हैण्ड पम्प खराब से पानी निकलने की कोसिस में युवक जिस मंत्री के घर के बाहर ही नलका ठीक नहीं किया जा सका वह दुनिया के लिए क्या करेगा ? मोदीजी को लिखा गये  पत्र की कापी



 मोदीजी जहाँ एक तरफ स्वछता अभियान के तहत पूरे देश में खुले में शौच से मुक्ती का ऐलान कर रखा है वहीँ इनके मंत्रियो के अपने गाव इस अभियान में फिस्सडी साबित हो रहे है,बल्कि पेय जल संकट से इस गाव में इस साल की शादियाँ रोक दी गयी है  ,आईये आपको लिए चलते है भारत सरकार के वित्त राज्य मंत्री जयन्त सिन्हा का गाव जहा इस अभियान के प्रति कोई जागरूकता ना तो दिखाई देती है ना ही मंत्री जी की कोई रूचि इस ओरे है ,हजारीबाग के हुपाद पंचायत में है मंत्री जी का आलीशान बांगला लेकिन इनके स्कुल का हालत खस्ता है इनके पंचायत में चार गाव है चारो गाव में मात्र 5, 5 प्रतिसत शौचालय है जिन्होंने अपने लिए अपना शौचालय बनवाया है बाकी सरकार का काम गया तेल लेने  ९५ प्रतिसत को कोई देखनेवाला नहीं है ,यहाँ तक की इनके घर के बगल के गाव सुन्दरपुर में  पानी की इतनी किल्लत है की यहाँ ग्रामीणों ने इस साल की शादिय मुल्तवी कर दी है ,लोग हर दीन स्नान नहीं कर पा रहे है एक कोस से पिने का पानी लाना पद रहा है ,ग्रामीणों ने सबको कहने से कोई फायदा नहीं देखते हुवे प्रधानमंत्री मोदीजी को ही पत्र लिखा  है .अब ज़रा ग्रामीणों के श्री मुख से ही सुनते है की उनका क्या कहना है ?
इस विडिओ में :-



video

देश का हीरो या इतिहास वाला नीरो ?

Posted by Tahalka.In|Online News Channel | | Posted in , , , , ,

देश का हीरो या इतिहास वाला नीरो ?
इतिहास में मर गया नीरो वर्तमान में जिंदा है
उमेश ओझा तहलका  डेस्क रांची 
झारखण्ड के हजारीबाग में दंगा हो गया ,17 अप्रैल से 24 अप्रैल तक सारा माहौल अस्त व्यस्त था ,ज़िन्दगी तबाह थी ,समाज और उसके लोग जल रहे थे ,लेकिन हजारीबाग में एक और अशांति की आग की लपटे मानवता को शर्मशार कर रही थी उसी बिच दिल्ली के एक आलीशान वातानुकूलित हाल में हजारीबाग के सांसद और देश के वित्त राज्य मंत्री  जयन्त सिन्हा के जन्म दीन की पार्टी चल रही थी ,मंत्रालय के लोग हजारीबाग संसदीय छेत्र के चहेतों में से चुनिन्दा लोग ,तरल पेय पदार्थो का मज़ा ले रहे थे ,खुशनुमा माहौल की नीली रोशनी में नहाया आलम लोगो के टपकते नूर यह बता रहे थे की जीना इसी का नाम है  हजारीबाग  के दंगे और यहाँ के हालात से उन्हें कोई लेना देना नहीं है ,21अप्रैल सोलह को हजारीबाग में चिलचिलाती धुप 41डिग्री का पारा पार कर चूका था लेकिन इस तपिश को भुलाकर लोग बेतहासा सड़को पर भाग रहे थे क्युकी कर्फ्यू में दो घंटे की ढील मिली थी ,सो जरुरत और रोजमर्रा का सामान खरीदने में सारा आलम मशगुल था तो दूसरी तरफ जिले का प्रशासन दंगे की पृष्ठभूमि के तार खोजने में व्यस्त था साथ ही दंगा आगे ना बढे इसकी गुन्जाईस तलाशी जा रही थी ,कोई बम तो कोई लाशो की तफ्तीश में जूता था ,अमन चैन लोग शांति की बहाली में मशगुल थे ,क्युकी रामनवमी पूजा में भड़के आक्रोश से दंगा भड़क गया था लाठी अंशु गैस और गोलिया दागी गयी थी ,कई लोग जख्मी तो कई मौत के आगोश में शमा  गए दहशतगर्दी के तार बांग्लादेश से जुड़ रहे थे ,शादी के सारे किनाबे बेरौनक हो गए थे ,सब कुछ दंगो की भेंट चढ़ गया था ,लेकिन इन सबसे बेखबर होकर हजारीबाग का रहनुमा ,,आका ,,जनप्रतिनिधि ,,सांसद  दिल्ली के वातानुकूलित हाल में पार्टी मन रहा था ,चैन की बांसुरी बजानेवाले इस रहनुमा को रोम के नीरो से तुलना की जाये तो कोई अतिश्योक्ति नही होगी ,, 


        कौन है नीरो और कौन है जयन्त सिन्हा ?
जयन्त सिन्हा हजारीबाग संसदीय छेत्र से भाजपा के सांसद है साथ ही देश के वित्त राज्य मंत्री भी है ,अपने छेत्र के लोगो की सुधि लेने की बजाय AC हाल में अपनी व्यस्तता का ढोंग रचाकर अपनी जनता को उल्लू बना रहे थे ,उन्हें रोम के नीरो से तुलना की जा रही है तो क्या गलत है ?क्युकी जिसका अपना शहर दंगे की भेंट चढ़कर कर्फ्यू की आग में जल रहा था ,उसका रहनुमा ,उसका आका ,अपने जन्म दीन की खुशियाँ बाटने और गिफ्ट लेने में मशगुल था ,तो इसे क्या कहें ?
१७ अप्रैल को जब दंगे की शुरुवात हुई उससे पहले माननीय सांसद ने दस बजे सुबह जुलुश के ऊपर हेलिकोप्टर से फूल बरसाकर लोगो को रिझाने पटाने और हिंदुत्व की भावना जगाने में अपनी रूचि दिखाई ,जबकि इस समय शहर के मुख्य मार्गो पर दो दो युवको की लाश पड़ी थी और उसके परिजन विलाप और हंगामा कर रहे थे ,और यह बात सांसद और विधायक को भी बताई गयी फीर भी वे इस मौत को नज़रंदाज़ करते हुवे फूल बरसाने की मुहीम ज़ारी रखी ,अब उसके तुरंत बाद वहां से मंत्री चलते बने और दंगा हो गया ,अब इन बेरहम दिल के  जन प्रतिनिधिओ से लाशे सवाल कर रही है की तुम्हारे इस  अमानवीय क्रिय को काया कहा जाए ?






                     बेरहम दिल मंत्री या नीरो ?
असल में जयन्त सिन्हा पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा के पुत्र है और वातानुलीत संस्कृति में पीला बढे है ,और राजनीती उन्हें पिता से विरासत में मिली है और जीत मोदीजी की कृपा से लहर में मिल गयी ,इसीलिए अभीतक अपनी पत्नी पुनीता कुमार को हजारीबाग की नागरिकता से महरूम रखा है ,वैसे भाजपा को हजारीबाग सीट पर कब्ज़ा ज़माने में १९८९ का दंगा मददगार साबीत हुवा था ,इसलिए दंगे की पृष्ठभूमि को भाजपाई अभी गलत नज़रिए से नहीं देखते है ,और इस राजनीती पर पार्टी की लहलहाती फसल में समय दर समय खाद पानी डालते रहना अपना कर्तब्य समझते है ,इसलिए दंगा को नज़रंदाज़ कर सांसद दिल्ली में नीरो बन गए और उनके बापजी हजारीबाग की सड़को पर दंगे को कश्मीर से तुलना कर तनाव को हवा देते रहे ,सायद यह कोई सोची समझी राजनीती थी ,




                    रणछोड़ है जयन्त सिन्हा 
हजारीबाग के सांसद से उम्मीदे पाले यहाँ की जनता उब रही है पर इससे क्या फायदा ? क्युकी २०१५ में बिजली के लिए हंगामा करते जब इनके पिताश्री गिरफ्तार होकर जेल चले गए तो जबतक  यशवंत sinha जेल से बाहर नहीं आये जयन्त दिल्ली में ही रहे ,अब यह क्लियर हो चूका था की जो अपने पिताश्री के जेल रहते छोड़कर भाग गया हो वह जनता की उम्मीदों पर कितना खरा उतरेगा ?इसलिए १७ अप्रैल को दंगा की शुरुवात होते ही यह नुमयिन्दा भाग खड़ा हुवा और 24 अप्रैल तक जनता की सुधि लेने की बजाय दिल्ली के ५ सितारा जिंदगी का आनंद लेता रहा ,जनता जाये भांड में मुझे काया पडी ?










बा अदब बा मुलाहिजा होशियार मुख्यमंत्री ऑन नक्सल मूव

Posted by Tahalka.In|Online News Channel | | Posted in , , , ,

      बा अदब  बा  मुलाहिजा होशियार मुख्यमंत्री ऑन नक्सल मूव 

उमेश ओझा
तहलका डेस्क  रांची
सारे खुफिया विभाग को बंद कर दिया जाए ,सारे खुफिया उपकरण बेच दिया जाए ,सारे लाम -काफ खर्चे बेकार हो रहे है क्युकी सूचनाये सरकार तक नहीं मिल रही है ,और अगर मिल रही है और उसपर अमल नहीं हो पा रहा है तब भी उसका कोई फायदा नहीं है लिहाज़ा दोनों स्थिती में इनका वजूद खतरे में है ,सरकार का समाज का देश का रूपया जाया क्यों हो ?
१२ फ़रवरी को मुख्यमंत्री रघुबर दास चतरा के लावालोंग जा रहे है ,यहाँ एक यज्ञ का उद्घाटन करना है ,मालूम है यह यज्ञ कौन करा रहा है ? यह यग्य वही कमिटी करा रहा है जो टडवा पिपरवार में पैसे का बंदरबाट करा रहा है जिसके लिए सारी  सरकारी मसिनारी जांच में जुटी है ,पुलिस तफतीस कर रही है खुफिया विभाग रिपोर्ट दे रहा है ,छापामारी हो रही है अरबो  के खेल का करोडो रुपया पकड़ा जा रहा है ,और उसी खेल के मुखिया के घर पर मुख्यमंत्री खाना भी खायेंगे ,वाह री सरकार ,वाह रे विडम्बना ,वाह रे खेल नक्सल -नेता-सरगना -मुखिया -मुख्यमंत्री का गठजोड़ बराबर रुपया ,अच्छा पहल है अच्छी बात है उम्दा खेल है ,यानी जो पहले से कवायद हो रहे है सभी नूर कुस्ती की तरह है ,छापामारी दिखावा है ,जांच छलावा है असल में साभी कार्य सिर्फ दामन को बेदाग़ दिखाने की कवायद भर है  ,नहीं तो क्या उन्हें जानकारी नहीं है की यज्ञ कौन करवा रहा है किसकी पहल है और वे उन्ही के घर पर खाना भी खायेंगे जिनके लिए सारा आलम सारी सरकार लगी है ,हो सकता है बंद कमरे में उनसे भी मुलाकात करे जो प्रतिबंधित है क्युकी अन्दर का नज़ारा देखने के लिए ना तो वहा मीडिया उपस्थीत होगी ना ही कोई साधारण  आदमी, सभी लोग सिंडिकेट के होंगे, लस्कर के होंगे ,रुपया देनेवाले रुपया का हिसाब रखनेवाले और रूपये से हथियार का भय दिखाकर गेम करनेवाले ,और उनके बिच सरकार के वर्दी पहने पहरुवे ऐसे रहेंगे मानो वही गुंडे हो ,अपराधी हो दलाल हो ,वर्दी की यही बेदर्दी उन्हें भ्रष्ट बनाती है नकाहील बनाती है क्युकी हमारे नेता ही अपनी सारी अकीदत अपराध की झोली में डाल देते है ,
हलाकि दिखने के लिए मुख्यमंत्री कस्तूरबा विद्यालय और  छोटी मोटी सड़को का भी शिलान्यास उद्घाटन करेंगे ताकि कोयले की काली चादर और नक्सल छाप को सफ़ेद चादर से ढाका जा सके ,अब लग रहा है की अनिल पलता का तबादला कैसे और क्यों  किया गया ,योगेन्द्र साव क्यों कहते है की रघुबर दास के इशारे पर सारा सिंडिकेट चल रहा है, TPC  JPC चल रहा है ,मतलब लब्बोलुवाब है की सरगना से मिलने के लिए इतना बड़ा आयोजन हो रहा है ,पुलिस से लेकर सारा महकमा इसके लिए बेदम है ,आम्रपाली से लेकर अशोका और मगध के लिए दरिआप किया जाएगा  I



कृषि मंत्रालय का भ्रस्टाचारी भूत

Posted by Tahalka.In|Online News Channel | | Posted in , ,

    झारखण्ड  कृषि मंत्रालय का भ्रस्टाचारी भूत 
तहलका डेस्क रांची
झारखण्ड बनने के बाद से अभी तक जो भी कृषि मंत्री बना भ्रस्टाचार  की गंगोत्री में डूबकी लगायी , भी की भाजपा सरकार  ने उधार के सिंदूर की तरह रंधीर सिंह को मंत्री बनाया है साहब अपने लोगो पर इतने मेहरबान है की पूछिए मत  सारे कायदे कानून को टाक पर रखकर काम कर रहे है बल्कि कृषि विभाग के इमानदार माने जाने वाले अधिकारी भी अपनी बोलती बंद करवा चुके है ,
मामला नम्बर एक -कृष्णा बिहारी नामक एक अपने आदमी को सिमडेगा का  आत्मा प्रोजेक्ट  डायरेक्टर  बनाया है ,जहाँ पहले ये डिप्टी पद पर कार्यरत थे ,इस पद के लिए कम से कम एम् एस सी कृषि अनिवार्य है ,लेकिन सिम्पल बी एस सी में इन्हें यह पद दे दिया गया क्युकी ये कृषि मंत्री और जटा शंकर चौधरी के अपने आदमी है ,यहाँ के जिलाधिकारी को भी इन्ही ताकतों से अपने वश में कर लिया है लिहाज़ा उन्हें वैसे फंड भी मुहैया हो जा रहे है जो अन्य एजेंसियो के माध्यम से  होने चाहिए थे ,
दूसरा मामला :-संजय कुमार को रामगढ का डेपुटी PD बनाया गया है ,जो हजारीबाग में JPPOके पद पर कार्यरत थे ,जो रामगढ आत्मा के गठन २००८ से ही वह कार्यरत थे ,ये दुमका में कार्यरत है पर वहां जाते ही नहीं है ,सचिव ने भी इन्हें रिलीस कर दिया पर उनके आदेश को भी ठेंगा दिखा दिया गया ,वहां गया ही नहीं ,सराईकेला में विजय  कुमार डिप्टी PD के पदपर कार्यरत है इनपर भी मंत्री और जटाशंकर बाबा की मेहरबानी है



                              आत्मा  को नचा रहे है जटाशंकर 
आत्मा के गाईडलाईन को ठेंगा दिखा रहे है है जटाशंकर चौधरी ने सारे मुकाम अपने पैरवी के बलपर अपनी पहुच की बदौलत करते है ,बिना अनुभव के बिना शिछा के लोगो को पैरवी और पैसे के बलपर काबिल लोगो के ऊपर बिठा दे रहे है जिससे सारा विभाग भ्रस्ताचार की गंगोत्री में तब्दील हो चूका है ,किसी भी काम के लिए पैसे की मांग की जाती है चाहे वेतन बढोतरी का मामला हो या फिर एरियर भुगतान का सभी के लिए मोती रकम की मांग की जाती है जो सभी मिलकर जुटाते है ,PD का वेतन उपायुक्त तय करते है और निचले कर्मचारी का वेतन स्टेट कार्यालय में फिक्स किया जाता है क्यों ?जटाशंकर बाबा  फकाल्टी के पदपर बहाल होकर आज डिप्टी डाईरेक्टर बन बैठे है जो सचीव पर भी भारी पड़ रहे है ,क्युकी इन्हें माननीय कृषि मंत्री जी का कृपापत्र होने का गौरव प्राप्त है ,

Posted by Tahalka.In|Online News Channel | | Posted in , , , ,

   झारखण्ड में भाजपा  सरकार ने पोर्न  फ्री किया 
तहलका डेस्क  हजारीबाग 
भाजपा की सरकार पोर्न साईंटो पर प्रतिबन्ध लगाने की मंशा रखती है ऐसे में अगर किसी भाजपा शासित प्रदेश में किसी धार्मिक मेले में खुलकर न्यूड डांस हो जिस मेले का उद्घाटन स्वयं मुख्यमंत्री करते है तो क्या कहा जाए ,और विडम्बना है की उस छेत्र में भाजपा का ही विधायक है और सांसद भी भाजपा का ही है  सांसद प्रदेश अध्यच है और इसी जिले के एक अन्य सांसद केंद्र में वित्त राज्य मंत्री भी है ,अगर ऐसे में धार्मिक मेले में अश्लीलता और फूहड़पन बाजारू संस्कृति का रूप लेने लगे तो शायद कहना पड़ता है की राजद कांग्रेस और सपा पर छिटाकसी करनेवाले जब खुद की औकात पर आये तो फिजां बदल सी गयी ,जी हा आईये आपको झारखण्ड में  हजारीबाग के बरकट्ठा लिए चलते है जहाँ विस्व प्रसिद्द सूर्य कुण्ड है ,यहाँ का कुण्ड 88 डिग्री का तापमान रखता है जो एशिया का सबसे गर्म कुण्ड है लिहाज़ा यहाँ जनवरी में  15 दीनो का मेला लगता है ज़ाहिर है यहाँ वैज्ञानिक परिपेछय से ज्यादा धार्मीक है इसलिए इस बार यहाँ मेले के उद्घाटन के लिए रघुबर दास स्वयं 14 जनवरी को आये । अब यहां दो दो थियेटर अपना कुनबा लगाये बैठे है शोभा सम्राट थियेटर और इंडिया थियेटर  जिनमे खुलकर न्यूड डांस नंगा नृत्य हो रहा है ,पैसे ने सबको चुप रहने को विवस कर दिया है हालांकि कुछ पंडित खुलकर बोल रहे है की यह गलत है ।नरेश पंडित पुजारी कहते है ,खुलकर नंगा नाच हो रहा है जो गलत है हमलोगो के वज़ूद पर प्रश्न चिन्ह लगने लगा है 
जुगल पाण्डे प्रबंधन समिति - यह कहने में कोई संकोच नही की नंगा नाच हो रहा है जिससे धार्मिक आस्था का नाश हो रहा है 
गौतम कुमार स्थानीय युवक  एशिया के उषणतंम कुंडो में एक इस कुण्ड और यहाँ  की आस्था दोनों ख़त्म हो रही है ,,,,, अब ज़रा दूसरे पछ के कुनबे में झांककर देखते है की उनका क्या मानना है ,लेकिन इससे पहले हम आपकी थोडा हकीकत के दर्शन करवा देते है क्योंकि पूरा दृश्य हम आपको नही दिखा सकते है
 S. K. Jha थाना प्रभारी गोरहर की मानें तो  हमें तो किसी अश्लील डांस की शिकायत नही मिली है वरना थियेटर बंद करवा देता, 
संजय पाण्डे मेला ठेकेदार ने ताल ठोककर कहा  कोई अश्लील डांस हमलोग नहीं होने देते है 
दीपक कुमार थियेटर संचालक - बदलते परिवेश में सबकुछ बदला है और सब कुछ में पापी पेट का सवाल है 
अब इतना सबकुछ हो रहा है यहाँ तक की लोग झारखण्ड के अलावे बिहार के ओरंगाबाद, गया, नवादा, बिहार शरीफ, से आ रहे है नाच देखने जिसकी चर्चा चारो तरफ है ,और साहब लोग कहते है हमें पता नही ।उत्तरी छोटानागपुर के सभी जिलो से लोग आ ही रहे है ,बड़े बड़े लोग रात में बड़ी बड़ी गाडियो में आते है और बन्दर टोपी लगाकर अश्लीलता का रसपान कर रहे है 
अब एक तीसरा पच्छ भी है कलाकारों का उसे भी सुन ले देख ले तो पुरे मामले की पड़ताल हो सकेगी-
 रीना कुमारी कलाकार शोभा थियेटर की -लोग  लड़की को लोग नंगा ओपन देखना पसंद करते है ,लहंगा चुनरी में आने से पत्थर मरते है बोतल फेकते है )
कसीस,, कलाकार इंडिया थियेटर  और जगहों की अपेछा यहा के दर्शक भिन्न है वो हद से ज्यादा कुछ देखना चाहते है,लड़की के तन पर कपड़ा देखना गंवारा नहीं लिहाज़ा पत्थर बोतल कुछ भी फेकने लगते है ,सांस्कृतिक रूप कोई देखना पसंद नहीं करता है  
सारे पछो को देखने सुनने के बाद लगता है की भाजपा सरकार की कथनी करनी में अंतर है सोनपुर मेले की अश्लीलता को मात देती यह संस्कृति शायद पाश्चात्य देशो में भी नही है ज़हाँ ऑरत की नुमाईस ही नही की जाती बल्कि उसका गन्दा प्रदर्शन किया जा रहा है और सरकार से लेकर प्रसासन तक चुप है खामोश है । तो फिर नंगा किसको कहा जाये यह एक बड़ा प्रश्न है
सच किसने कहा झूठ कौन बोल रहा है यह बात आप इस विडिओ को देखकर स्वयं बता सकते है ,,,,,,
video

Posted by Tahalka.In|Online News Channel | | Posted in , , ,

भोलुवा का  पाती ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,मुखमंतरी के नाम 
जरा एक नज़र देखो न ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

आदरनिये मुखमंतरी साहेब
                                      वालेकुम परनाम , आगे सब खुसाल मंगल  है , लेकिन आपका राज में आपका रिस्तादार लोग अच्छा नहीं कर रहा है ,आपका नाम पर गुण्डागरदी हो रहा है ,अइसन गुंडागर्दी की लालू जादव  भी लजा जा रहा है ,टाटानगर  में पाहिले तो आपका बेटा अकेले था वही धूम धडाम करता था ,वू तो ईगो ऑफिस हड़प के बैठ गया है वही से सब गोगोगिरी चला रहा है ,उसको आप ऑफिसर बना दिए है तबो अइसन काहे करता है ,दूसरा तरफ आपका भाई और भतीजा लोग है जो गंगाजल फिलिम का शूटिंग जैसन हंगामा कर रहा है ,अभियंता लोग के कहता है की ठीक हमारा आदमी को दो नहीं तो गंगाजल फिलिम देखा था न वैसने होगा ,सब इंजीनियर लोग डरा हुवा है ,थानादार को डरता है किसका FIR करना है किसका नहीं ,रिक्सावाला का लड़ाई में भी मुखमंतरी आवास से फोन जा रहा है ,का इसाब अच्छा है ,इनोभा गाडी का टायर बदले के वास्ते शो रुम वाला से आपका भाई लड़ जाता है थानादार भी शोरुम्वाला को कहता है की  सी एम् हॉउस से फोन ईल बा गलत रहे चाहे सही टैरवा तो देवे के पड़ी ,भला बताइए रघुबर भैया की आपका भाई ईगो टैर  का वास्ते झगडा कर रहा है ,आप का  करवाना चाहते है ,यही लोग आपका माटी पलीत करके छोड़ देगा ताखनी  आपको कोय नहीं पूछेगा ,अपना इज्जत बचाना है तो माय कसम जे घुस के रुपैया कमाए है ने वही देके विदेश भेज दीजिये ,नहीं तो जादा हो हल्ल्ला होगा न तो मोदीजी जादा लोड नहीं लेंगे सीधे बैक टू पेवेलियन ,सम्हाल के रहिये  भाई भतीजे के चलते ही महाभारत हुवा था और उसका चलते ही आदमी भीतरे चला जाता है ,भ्लुवा का बात आपको कड़ा लगेगा काहे की हमको घीव लगाके बोलना नहीं आता है ने ,सीधे बात बोलते है खर्रा ,गोली लगेगा छर्रा ,
वैसे आप अच्छा आदमी है नाप जोखके बीटा भतीजा पर लगाम लगाइए ,कमांड रखिये नहीं तो माय बाप किरिया जै जाई सियाराम  हो जायेगा,,हम तो सोचते थे की आप खाली TPC वाला आदमी से गुंडागर्दी करा रहे है लेकिन आपतो अपना आदमी लोग को भी साधू जादव बनके बजार में उतार रहे है ,ठीके है नहीं होगा तब हमको मोदी बाबा को भी चिट्ठी लिखना पड़ेगा ,
खैर आगे भूल चुक लेनी देनी माफ़ ,,,,,,आगे आपका
भोलुवा उर्फ़ भोलानाथ 
मांसीपीढ़ी ,हजारीबाग    

जाने अपना राशिफल